December 9, 2022
Holi Poems in Hindi

3 Holi Poems in Hindi for Students | होली पर कविताएँ (Happy Holi 2021)

Holi Poems in Hindi 2021 – हेल्लो दोस्तों आने वाली March 2021 Holi की आपको बहुत-बहुत बधाईयाँ। इस पोस्ट में मैं आपके लिए होली पर कविता लेकर आया हूँ। आप इन Holi Poems in Hindi को अपने दोस्तों, रिशतेदारों के साथ शेयर कर सकते है। साथ ही इन Holi Kavita in Hindi (होली पर हास्य कविता) को अपने स्कूल या कॉलेज के मंच पर भी गुनगुना सकते है।

Best Holi Poems in Hindi for Students

Holi Poems in Hindi 2021

1. Holi Poem in Hindi for Nursery

[su_note note_color=”#c7e0fa” text_color=”#000000″ radius=”14″]देखो-देखो होली है आई,
चुन्नू-मुन्नू के चेहरे पर खुशियाँ है छाई,
मौसम ने ली है अंगडाई।

शीत ऋतु की अब हो जाएगी बिदाई,
क्योंकि ग्रीष्म ऋतु की आहट है अब आई,
सूरज की किरण ने गर्मी है दिखलाई,
देखो-देखो रंगों से भरी होली है आई।

बच्चो ने होली की योजना है खूब मनाई,
पिचकारिया है दुकानवाले से मंगवाई,
रंगों और गुलाल की जिद है रखवाई,
जिसकी मिली थी अनुमति सिर्फ वही है दिलवाई।

दादा जी ने कच्चे-पक्के रंगों की बात है बतलाई,
जिस पर सभी बच्चो ने अपनी सहमती है जताई,
बच्चो ने खूब मिठाइयाँ, हलवा खाकर,
गाँव में बड़ी धूम-धाम है मचाई।

होली ने भक्त प्रहलाद की याद है दिलवाई,
बच्चो और बड़ो ने कचरे और अवगुणों की होली है जलाई,
होली ने कर दी सबकी सफाई,
जिसने दी है प्रेम के गुणों की गहराई।

बच्चो अब है तुम्हारी परीक्षा की घडी आई,
करो पढाई वरना सहनी पड़ेगी पिटाई,
बहुत सफलता देगी तुम्हारी मेहनत,
सभी लोगो की मिलेगी तुम्हे बढाई।

होगा प्रतीत ऐसा होली सी खुशियाँ है फिर लौट कर आई,
देखो-देखो खुशियों से भरी रंगों की होली आई।[/su_note]

Dekho dekho holi hai aai,
Chunnu Munnu ke chehre par khushiyan hai chhai,
Mausam ne li hai angdaai.

Sheet ritu ki ab ho jayegi bidai,
Kyoki gresm ritu ki ab aahat hai aai,
Suraj ki kiran ne garmi hai dikhlai,
Dekho dekho rango se bhari holi hai aai.

Baccho ne holi ki yojna hai khoob banai,
Pichkariya hai dukaanwale se mangwai,
Rango or gulaal ki jid hai rakhwai,
Jiski mili thi anumati sirf wahi hai dilwai.

Dada ji ne kacche-pakke rango ki baat hai batlaai,
Jis par sabhi baccho ne apni sahmati hai jatai,
Baccho ne khoob mithaiyan, Halwa khakar,
Gaon me badi dhoom-dhaam hai machai.

Holi ne bhakt prahlaad ki yaad hai dilwaai,
Baccho or bado ne kachre or avguno ki holi hai jalai,
Holi ne kar di sabki safai,
Jisne di hai prem ke guno ki gehrai.

Baccho ab hai tumhari pariksha ki ghadi aai,
Karo padhai varna sehni padegi pitai,
Bahut safalta degi tumhari mehnat,
Sabhi logo ki milegi tumhe badhaai.

Hoga prateet aisa holi si khudhiya hai fir laut kar aai,
Dekho-dekho khudhiyo se bhari rango ki holi aai.

2. होली पर कविता

[su_note note_color=”#c7e0fa” text_color=”#000000″ radius=”14″]सबके जीवन में बन जाये खुशियों की रंगोली,
आप सभी को मुबारक हो रंगों भरी ये होली।

होली बहुत-बहुत मुबारक उनको जो सीमा रेखा पर जवान पहरा देते है,
जिनकी वजह से आज हम सब लोग अपने घरो में चैन की नींद लेते है।

होली मुबारक उनको भी जो होली पर घर नहीं जा पाते है,
जिनकी वजह से उनके परिवार अन्न जल खा पाते है।

असली होली तब होगी जब हर जवान खुशहाल होगा,
असली होली तब होगी जब हर किसान खुशहाल होगा।

जब दिलो की दूरियों को मिटाकर दोस्ती का हाथ बढ़ाते है,
सही मायने में हम तभी एक दुसरे को रंग लगते है।

होली के रंग तो मिटने वाले एक दिन में मिट जायेंगे,
किसी को खुशियों से रंगोगे तो अच्छी दोस्ती हम पाएंगे।

चलो इस बार होली पर हम कुछ नया काम करते है,
किसी की जिन्दगी में खुशियों के रंग हम भरते है।[/su_note]

Sabke jiwan me ban jaye khushiyo ki rangoli,
Aap sabhi ko mubarak ho rango bhari ye holi.

Holi bahut-bahut mubarak unko jo seema rekha par jawan pehra dete hai,
Jinki wajah se aaj hum sab log apne gharo me chain ki neend lete hai.

Holi mubarak unko bhi jo holi par ghar nahi ja pate hai,
Jinki wajah se unke pariwar ann jal kha pate hai.

Asli holi tab hogi jab har jawan khushaal hoga,
Asli holi tab hogi jab har kisaan khushhaal hoga.

Jab dilo ki duriya ko mitakar dosti ka haath badhate hai,
Sahi mayne me hum tabhi ek dusre ko rang lagate hai.

Holi ke rang to mitne wale ek din me mit jayenge,
Kisi ko khushiyo se rangoge to acchi dosti hum payenge.

Chalo is baar holi par hum kuch naya kaam karte hai,
Kisi ki jindgi me khushiyo ke rang hum bharte hai.

3. Best Poem on Holi Festival 2021

[su_note note_color=”#c7e0fa” text_color=”#000000″ radius=”14″]ये कहा आ गए हम,
ना कोई ख़ुशी ना कोई गम,
बस मशीन की तरह हर दिन चल रहे है,
वतन की आग में हर दिन जल रहे है।

देश में हर त्यौहार वीकेंड बन जाते है,
अब वीकेंड में हम लोग त्यौहार मनाते है,
अच्छे कपडे पहनते है, लोगो को रंग लगाते है,
त्यौहार वाले दिन तो ऐसे ही बीत जाते है।

ना भुजिया, ना पकोड़ी, ना दोस्त,
ना रिश्तेदार, बस नाम का है त्यौहार,
ना दिलो में प्यार, ना जुबा पर बोली,
बस चुटकी भर गुलाल में बीत रही है होली।[/su_note]

Ye kaha aa gaye hum,
Na koi khushi na koi gum,
Bas machine ki tarah har dil chal rahe hai,
Watan ki aag me har din jal rahe hai.

Desh me har tyohar weekend ban jate hai,
Jab weekend me hum log tyohar manate hai,
Acche kapde pehante hai, Logo ko rang lagate hai,
Tyohar wale din to aise hi beet jate hai.

Na bhujiya, Na pakodi, Na dost,
Na rishtedaar, Bas naam ka tyohar,
Na dilo me pyar, Na juba par holi,
Bas chutki bhar gulaal me beet rahi holi.

Special Holi Festival Articles

Holi SearchesHoli Poems in Hindi, Holi Kavita in Hindi, Hindi Poems on Holi Festival, 10 Lines on Holi Festival in Hindi, Short Poems on Holi in Hindi, होली पर कविता, होली की कविता, होली पर हास्य कविता

दोस्तों आपको होली पर कविता Holi Poems in Hindi कैसी लगी हमें बताना ना भूले। इन Hindi Poems on Holi Festival को ज्यादा से ज्यादा शेयर भी करे।

One thought on “3 Holi Poems in Hindi for Students | होली पर कविताएँ (Happy Holi 2021)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *