November 27, 2022
Nick Vujicic Biography & Inspirational Story in Hindi

हाथ पैर नहीं होते हुए भी कैसे बने Nick Vujicic एक Motivational Speaker?

Nick Vujicic Inspirational Story in Hindi:- दोस्तों इस दुनिया में सिर्फ कुछ लोग ही नहीं बल्कि बहुत से ऐसे लोग है जो कहते फिरते रहते है कि मेरे पास ये नहीं था वरना मैं ये हासिल कर लेता, मेरी तबियत ख़राब रहती थी वरना मैं आज करोडपति बन जाता। पता नहीं ऐसे कितने बहाने ढूँढ़ते रहते है लेकिन आज की ये Nick Vujicic Biography & Inspirational Story in Hindi (इंस्पायरिंग स्टोरी) पढ़कर आप बहाने बनाना छोड़ देंगे।

Must ReadKalpana Saroj Biography and Motivational Story

Nick Vujicic Inspirational Story in Hindi language

Nick Vujicic Biography & Inspirational Story in Hindi
Nick Vujicic

भगवान ने आपको हाथ पैर दिए है, काम करने के लिए एक अच्छा स्वस्थ शरीर दिया है अब जरा सोचिये, अगर जन्म से ही आपके पास हाथ-पैर नहीं हो तब आपको कैसा लगेगा? यकीनन आप अपनी किस्मत को दोष देने लगेंगे और अपनी जिन्दगी से हार मान बैठेंगे। ये Motivational Story एक ऐसे ही लड़के की है जिसके जन्म से ही हाथ पैर नहीं थे और फिर भी आज वो एक Motivational Speaker है जो लोगो को Inspire करने का काम करते है।

निक व्युजेसिक की सफलता की कहानी

निक व्युजेसिक का बचपन

Nick Vujicic का पूरा नाम Nicholas James Vujicic है। इन्होने 4 December, 1982 को Australia के Melbourne में जन्म लिया। इनकी माता का नाम Dushka Vujicic और इनके पिता का नाम Boris Vujicic था।

Australia में पैदा हुए Nick दिखने में तो आम इंसान जैसे ही थे लेकिन उनमे एक बिमारी थी जिस वजह से उनके पास हाथ पैर नहीं थे। डॉक्टर के लाख कोशिशो के बावजूद उनकी बिमारी ठीक नहीं हो पाई और अब उन्हें पूरी उम्र बिना हाथ पैर के गुजारनी थी।

जैसे-जैसे निक बड़ा होने लगा वह चिडचिडा रहने लगा क्योंकि वह लोगो के साथ कंधे से कन्धा मिलकर चल नहीं सकता था इस वजह से उसके कोई दोस्त नहीं थे लेकिन निक का भगवान में बहुत विश्वास था और उसके माता-पिता ने भी निक का पूरा साथ दिया।

आत्महत्या करने की सोची

जब इंसान को कही कोई रास्ता दिखाई नहीं देता तब वह बस एक चीज़ के बारे में सोचता है कि अब जिन्दगी को अलविदा कह देना चाहिए और निक ने भी यही सोच कर 10 वर्ष की आयु में आत्महत्या करने की सोची लेकिन उसके माता-पिता ने उसे बचा लिया और उसे प्रोत्साहित किया कि वह भी एक आम जिन्दगी जी सकता है अगर संघर्ष करे।

हुए खुद पर निर्भर

निक के माता-पिता चाहते थे कि वो आत्मनिर्भर हो जाये ताकि कभी किसी के सामने हाथ न फैलाये। निक के पास हाथ-पैर तो नहीं थे लेकिन पैर के स्थान पर छोटी-छोटी उँगलियाँ निकली हुई थी। वो आपस में जुडी हुई थी डॉक्टर्स ने उन्हें अलग अलग कर दिया ताकि निक उनका इस्तेमाल अपने निजी कार्यो में ले सके। जैसे लिखना, कोई चीज़ पकड़ना आदि।

निक की हजारो कोशिशो के बाद उसने कंप्यूटर पर टाइपिंग करना, फूटबाल खेलना यहाँ तक की तैरना भी सीख लिया। आम इंसान हाथ-पैर होने के बावजूद तैरना नहीं जानता लेकिन निक सामान्य व्यक्ति की तरह तैरता था। सिर्फ इतना ही नहीं निक अब ड्राइविंग करने लगा था, पेंटिंग करने लगा था। वह सारे काम जो हम और आप करते है अब निक भी करने लगा था।

जब मिली सफलता (Success)

एक बार निक के माता-पिता ने उसे एक कहानी सुनाई जो एक निक की तरह विकलांग व्यक्ति की Motivational Inspirational Story थी। कहानी सुन ने के बाद निक को अहसास हुआ कि पूरी दुनिया में सिर्फ एक वही विकलांग नहीं है उसके जैसे और भी बहुत से लोग है। निक को ये भी अहसास हुआ कि कुछ लोग तो हाथ-पैर होते हुए भी विकलांग बने हुए है।

बस फिर क्या था निक ने सोच लिया की वह लोगो को Motivate, Inspire करने का काम करेगा। जो लोग अपनी जिन्दगी में रास्ता भटक जाते है वह उन्हें सही रास्ते पर लायेगा। निक ने जैसा सोचा था वैसा ही हुआ आज वो लाखो लोगो को अपनी सच्ची प्रेरणादायक कहानी (True Motivational Story) से लोगो को Motivate करते है और लोगो को उनसे Inspirational मिलती है।

बन गए Motivational Speaker

निक ने अब तय कर लिया था कि वो एक Motivational Speaker (प्रेरक वक्ता) का काम करेंगे। उन्होंने “Attitude is Attitude” नमक अपनी खुद की एक कंपनी बनाई और “Life without Limbs” नाम से गैर लाभकारी संगठन भी बनाया। जहा सामान्य व्यक्ति का दूसरे देश में जाना एक सपना होता है और वो बस सपना बनकर ही रह जाता है वही दूसरी ओर निक अब तक 44 से अधिक देशो की यात्रा कर चुके है।

2012 में निक की शादी हो गई और आज उनके बच्चे भी है। निक वह हर काम करते है जो एक साधारण व्यक्ति अपने जीवन में करता है। बल्कि मैं तो ये कहूँगा वह वो काम भी करते है जो एक साधारण स्वस्थ व्यक्ति भी नहीं कर पाता।

दोस्तों निक अक्सर कहते है-

इस दुनिया में कुछ भी असंभव नहीं होता। हम वो सबकुछ कर सकते है जो हम सोच सकते है और हम वो सबकुछ सोच सकते है जो हमने आज तक नहीं सोचा।

At Last

Success story in hindi
Image by Tumisu from Pixabay

अक्सर लोग अपनी छोटी-छोटी problems को लेकर रोते रहते है। अब जरा आप खुद सोचिये क्या आपकी problem निक से भी बड़ी है? एक बार अपने आप को निक की जगह रख कर देखिये। मैंने जब पहली बार इस Most Inspirational Story in Hindi on Success को पढ़ा तब मेरे दिमाग में बस यही आया “Nothing is Impossible” दुनिया में असंभव कुछ भी नहीं अगर करने की चाहत हो।

एक बार जब इंसान के दिमाग में नकारात्मक सोच (Negative Feelings) अगर घुस जाती है तब वह एक अजीब से Pressure में आ जाता है और जो काम वह करने योग्य होता है उसमे भी अयोग्य हो जाता है। इसलिए इंसान को हमेशा सकारात्मक सोच (Positive Feelings) रखनी चाहिए।

अब दोस्तों फैसला आपके हाथ में है या तो अपनी किस्मत को रोते रहो या फिर कुछ करने की ठान लो वो कहते है ना –

ठान लो तो जीत होगी, मान लो तो हार लोगी।

Articles related to Inspirational Story in Hindi

TagsMotivational Story, Inspirational Story, Real Life Story, Success Life Story, True Hindi Story, सफलता की कहानी

आपको यह “Nick Vujicic Inspirational Story in Hindi” कैसी लगी? इस Motivational True Motivational Story of Success (सफलता की कहानी) को ज्यादा से ज्यादा शेयर करे ताकि आपकी वजह से किसी के मन में positive feelings आये और वो अपनी जिन्दगी में खुद को दुखो से उपर लेकर आ पाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *