December 9, 2022
29 अगस्त खेल दिवस

29 अगस्त खेल दिवस भाषण/निबंध – National Sports Day Speech and Essay

29 अगस्त खेल दिवस पर निबंध एवम भाषण (National Sports Day Essay and Speech in Hindi) – दोस्तों राष्ट्रीय खेल दिवस “29 August Khel Diwas” को हर साल 29 अगस्त को मनाया जाता है। इस दिवस को 29 अगस्त को इसलिए मनाया जाता है क्योंकि इसी दिन भारत के एक महान खिलाडी “मेजर ध्यानचंद” का जन्म हुआ था।

29 अगस्त खेल दिवस

इस पोस्ट में हम आपके साथ 29 अगस्त खेल दिवस निबंध (Essay on National Sports Day in Hindi), खेल दिवस पर भाषण (Speech on National Sports Day in Hindi) शेयर करने वाले है। दोस्तों अगर आपको ये Khel Diwas Essay in Hindi, Khel Diwas Speech in Hindi पसंद आये तो इन्हें शेयर करना ना भूले।

29 अगस्त खेल दिवस पर निबंध एवम् भाषण

राष्ट्रीय खेल दिवस एक भारत का त्यौहार “पर्व” है और इसे हर साल 15 अगस्त को मनाया जाता है। इस दिन भारत के महान खिलाडी मेजर ध्यानचंद का जन्म हुआ था इसलिए इसे उनके जन्मदिन के शुभ अवसर पर मनाया जाता है।

भारत का हर बच्चा खेल सके इसलिए भारत सरकार ने भारत के हर स्कूल/कॉलेज में खेल अनिवार्य कर दिया है। खेल खेलना बच्चो के लिए बहुत ज़रूरी है ताकि वो मानसिक और शारीरिक तौर पर स्वस्थ रहे। हमारे भारत का राष्ट्रीय खेल “हॉकी” है। मेजर ध्यानचंद जी को हॉकी का जादूगर भी कहते है। क्योंकि वो हॉकी के खेल में भारत का नाम काफी उपर तक लेकर गए।

Khel Diwas par Nibandh/Bhasahan

हर स्कूल में खेल खेलना चाहिए ताकि देश के कोने कोने से खिलाड़ी निकल कर आये और आगे चलकर भारत का नाम पूरी दुनिया में रौशन करे। पढ़ाई के साथ-साथ खेल भी उतना ही ज़रूरी है। हमे लोगो को खेलो के प्रति जागरूक करना चाहिए। आजकल बच्चे टेलीविज़न, मोबाइल, कंप्यूटर इत्यादि पर गेम्स ज्यादा खेलने का शोक रखते है जिसमे उनका भविष्य कतई नहीं होता।

खेल को नेचुरल तरीके से खेलना चाहिए जैसे कि – हॉकी, क्रिकेट, फूटबाल, कबड्डी इत्यादि। यहाँ बच्चो के माँ-बाप को भी ध्यान देना चाहिए और उन्हें बच्चो को खेलने से नहीं रोकना चाहिए। आजकल के कुछ माता-पिता सिर्फ अपने बच्चे की पढ़ाई के बारे में सोचते है लेकिन उन्हें ये मालूम नहीं रहता कि जितना ज़रूरी पढाई है उतना ही ज़रूरी खेलना भी है क्योंकि खेलने से बच्चे का शरीर स्वस्थ रहता है।

29 अगस्त खेल दिवस को भारत में इसलिए मनाया जाता है ताकि खेलो को बढ़ावा दिया जा सके। भारत सरकार अपनी पूरी कोशिश कर रही है जिस से देश का हर बच्चा अपनी पढाई-लिखाई के साथ खेल-कूद में भी भाग ले।

मेजर ध्यानचंद (About Major Dhyan chand in Hindi)

ध्यानचंद जी का जन्म 29 अगस्त, 1905 को इलाहाबाद में हुआ था। वर्ष 1922 में वो इंडियन आर्मी में भर्ती हो गए और फिर चार साल बाद 1926 में उनको हॉकी की टीम में ले लिया गया। इसके दो वर्ष बाद यानि की 1928 में भारतीय हॉकी टीम ने नीदरलैंड को 3-0 से और ऑस्ट्रेलिया को 6-0 से हराया।

ध्यानचंद से और भी बहुत से मुकाबलों में अच्छे से धुल चटाई जिसके बाद उन्हें हॉकी का जादूगर कहा जाने लगा। मेजर ध्यानचंद को “हॉकी विजार्ड” के पुरुस्कार से सम्मानित किया गया। वर्ष 1956 में उन्हें पदम् भूषण के पुरुस्कार से भी सम्मानित किया गया। अंत में 3 दिसम्बर, 1979 को उनकी मृत्यु हो गई। 29 अगस्त खेल दिवस को मेजर ध्यानचंद जी के जन्मदिवस के रूप में मनाया जाने लगा।

लोग आज भी ध्यानचंद जी को याद करते है और करते रहेंगे। हमे आज देश के कोने कोने से ऐसे ही खिलाडियों की तलाश है।

पढ़ेSachin Tendulkar Quotes in Hindi

अंतिम शब्द

दोस्तों ये था 29 अगस्त खेल दिवस पर भाषण, निबंध Short Essay on National Sports Day in Hindi अगर आपको ये Khel Diwas par Bhasahan, Khel Diwas par Nibandh अच्छा लगा हो तो इस National Sports Day in Hindi को सोशल मीडिया पर शेयर करे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *